हजारीबाग पुलिस ने फर्जी पीएम केयर्स फंड का किया पर्दाफाश

शेयर करें

हजारीबाग पुलिस को मिली बड़ी सफलता हजारीबाग एसपी कार्तिक एस ने प्रेस वार्ता कर जानकारी दी कि शाखा प्रबंधक यूनियन बैंक ऑफ इंडिया आनंदा कॉलेज शाखा हजारीबाग द्वारा एक आवेदन समर्पित किया गया कि उनके शाखा में खोला गया खाता को एक फर्जी वेबसाइट पीएम केयर लाइफ फंड से लिंक किया गया है। उस खाता में खाता धारक का नाम पीएम केयर अंकित है तथा जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए पीएम केयर रिलीफ फंड में दान देने के संदर्भ में अपील की गई है। इस खाता में अभियुक्तों द्वारा काफी संख्या में पैसा का लेनदेन किया गया है। इस संदर्भ में सदर थाना में कांड दर्ज किया गया था। साथ ही शाखा प्रबंधक पंजाब नेशनल बैंक बड़ी बाजार के द्वारा भी एक आवेदन समर्पित किया गया कि उनके खाता में भी इसी तरह का कार्य हो रहा है। दोनों कांडों के अनुसंधान के क्रम में चार अभियुक्तों को हजारीबाग पुलिस के द्वारा गिरफ्तार कुछ दिन पूर्व किया गया था जो कि सभी हजारीबाग के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के रहने वाले थे। उनसे पूछताछ के बाद अग्रतर अनुसंधान के क्रम में तकनीकी शाखा द्वारा दिए सूचना के आधार पर टीम द्वारा कड़ी मशक्कत के बाद संदेह के आधार पर रोशन कुमार को मुजफ्फरपुर बिहार से उसके लैपटॉप और मोबाइल के साथ गिरफ्तार किया गया है । रोशन कुमार का कांड में मुख्य भूमिका है जिसके द्वारा फर्जी वेबसाइट बनाकर सहयोगियों के माध्यम से साइट को प्रमोट करवा कर लोगों से राशि की ठगी की जा रही थी । वही विशेष टीम के द्वारा ही नूर सराय नालंदा से रोहित राज को भी गिरफ्तार किया गया है। जिनके बैंक खाता में विभिन्न व्यक्तियों द्वारा अप्रत्याशित रूप से छोटी छोटी रकम जमा की गई थी और जमा होने के उपरांत उसे अन्य अभियुक्तों के पास में ट्रांसफर कर दिया गया था । वही हजारीबाग एसपी ने बताया कि छापेमारी के दौरान बिहार से ही कई एटीएम कार्ड, पासबुक, सिम और मोबाइल फोन, लैपटॉप बरामद किए गए हैं। लैपटॉप के माध्यम से करीब 25 से अधिक फर्जी वेबसाइट बनाकर साइबर क्राइम की घटना को अंजाम दिया जाता था । इस मामले में लगभग 50 से 60 लाख की हेराफेरी की गई है।