लोक आस्था के महापर्व छठ की खरीदारी को उमड़े लोग

शेयर करें

लागत मूल्य पर फल की खरीदारी को लेकर जुटी भीड़ हज़ारीबाग, 19 नवंबर लोक आस्था के महापर्व छठ की खरीदारी को लेकर गुरुवार को बाजार में काफी भीड़ देखी गई। खरीदारी को लेकर उमड़े लोगों के कारण शहर के कई मार्गों में जाम का दृश्य भी देखा गया, हालांकि यातायात पुलिस जाम के नियंत्रण में सचेत रही। आज खरना को लेकर बाजार में चहल पहल भी दिखा। छठ व्रती महिलाओं एवं पुरुषों ने मां को भोग लगाकर खरना किया। इसके साथ ही 36 घंटों का निर्जला उपवास भी प्रारंभ हो गया। इधर पिछले कई वर्षों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं के सहयोग व प्रेरणा से सूर्य षष्ठी छठ पूजा फल वितरण समिति के तत्वावधान में हिन्दू हाई स्कूल परिसर में लागत मूल्य पर फल उपलब्ध कराया गया। श्रद्धालुओं की अच्छी भीड़ लागत मूल्य पर खरीदने के लिए हिन्दू स्कूल परिसर में जुटी। कुछ ही घंटे में करीब एक हज़ार से अधिक लोगों ने समिति के स्टाल से केला, सेव, संतरा, डम्भा, ईख सहित पूजन सामग्री खरीदा। ज्ञात हो कि समिति के सदस्यों एवं समाज के कुछ लोगों के आर्थिक सहयोग से फल की खरीदारी कर लागत मूल्य पर बेचा जाता है। इस कार्य में 5 दर्जन से अधिक लोग श्रमदान कर कार्य करते हैं। समिति के अध्यक्ष चंदन मेहता ने कहा कि लागत मूल्य पर पर्व करने वालों को फल उपलब्ध कराकर बाजार में फल के मूल्य पर नियंत्रण का प्रयास रहता है और इस कार्य में समिति अब तक सफल रही है। उन्होंने इसमें आर्थिक एवं शारीरिक रूप से सहयोग करने वालों के प्रति आभार भी जताया। कार्यक्रम में ब्रजेश, प्रवीण, अरविंद राणा, राकेश, टेकलाल, राजेश सिन्हा, महेश, संतोष यादव, संजय श्रीवास्तव, सुधीर यादव, शाद्वल कुमार, महेन्द्र राणा, कुमार केशव, किशोर सिन्हा, डॉ प्रहलाद सिंह, बबलू कुमार, कृषणा,सोनू सुमन, रवि रंजन, मुकेश राम प्रजापति, हीरा राम, शशि, प्रेम राणा, सचिन खंडेलवाल, संजय कुमार, सन्नी मेहता, गौरव सहाय, रंजन कुमार आदि की प्रमुख भूमिका रही। छठ महापर्व को लेकर आज भी शहर के झील, तालाब, नदी के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भी छठ घाटों की साफ सफाई को अंतिम रूप दिया जा रहा है। शुक्रवार को छठ घाटों पर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्ध्य दिया जाएगा। शनिवार की सुबह उदीयमान सूर्य को अर्ध्य देने के साथ ही लोक आस्था के महापर्व छठ का समापन हो जाएगा। सरकार व जिला प्रशासन ने कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने को लेकर इस वर्ष श्रद्धालुओं से सामाजिक दूरी का पालन करते हुए पर्व मनाने की अपील की है।